13 साल की लड़की ने फ़ोन में अश्लील वीडियो देख छोटे भाई के साथ किया घिनोना काम

जानने के लिए आगे पढ़े…

इस कोरोना महामारी ने लोगों को एक सीमित दायरे में ही सीमित कर दिया है। वहीं दूसरी ओर लोग सेल फोन, लैपटॉप आदि जैसे इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बन गए हैं।  लेकिन इसके दुष्परिणाम भी सामने आने लगे हैं।  ऐसा ही एक मामला राजस्थान में सामने आया मिली जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र से एक परिवार काम की तलाश में राजस्थान गया था।  यहां मजदूर अपने दो बच्चों और पत्नी के साथ रहता था।  

उनकी बेटी नौवीं और बेटा सातवीं में पढ़ता था।  वहीं, कोरोना काल में दोनों ने पढ़ाई के नाम पर पूरा दिन मोबाइल पर ही बिताया।  इस दौरान कुछ ने फर्जी लिंक से अश्लील साइटों को घूस देकर पोर्न देखना शुरू कर दिया।  इन दोनों फिल्मों को देखकर दोनों के बीच रोमांस शुरू हो गया।

जिसके बाद नाबालिग गर्भवती हो गई।  हादसे के बाद पूरा परिवार महाराष्ट्र लौट आया। जहां उसकी दादी ने बच्ची का पेट देखा। उसके बाद जांच की गई और बाद में पता चला कि लड़की गर्भवती है।  वहीं, इस प्रक्रिया के बाद डॉक्टरों की सलाह पर आगे के उपाय किए गए।

दरअसल, यह सब अलोर जिले के भिवाड़ी का है। जहां महाराष्ट्र का एक परिवार है और भिवाड़ी में काम करता है। जहां मिली जानकारी के मुताबिक 13 साल के भाई और 15 साल के दूसरे बच्चे का ऐसा ही एक्सीडेंट हुआ।  बड़ी बहन खेल खेलती थी। 

खेल में शारीरिक संबंध बनाने के बाद, और जब लड़की का पेट असामान्य रूप से बड़ा दिखने लगा तो उसकी जांच की गई और छह महीने की गर्भवती पाई गई। यह जानकर कि परिवार सदमे में था। दुर्घटना के बाद, वे सीधे वहां आ गए। अब महाराष्ट्र राज्य पुलिस को जब जीरो एफआईआर भेजी गई तो यह आदेश सामने आया।

पीड़िता भिवाड़ी के एक निजी स्कूल में नौवीं कक्षा की छात्रा है।  छोटा भाई सातवीं कक्षा में पढ़ता है।  महिला पुलिस स्टेशन निदेशक रामचंकर ने कहा कि महाराष्ट्र का एक परिवार मजदूरी के बदले भिवाड़ी में लंबे समय से रह रहा था।  15 साल की पोती का पेट बढ़ता देख दादी को शक हुआ तो उसने टेस्ट कराया तो पता चला कि वह प्रेग्नेंट है।

परिवार इतना सदमे में था कि वे तुरंत महाराष्ट्र के वर्धा जिले के सिफग्राम के मूल गांव में चले गए।  बाद में बच्चे के खराब होने के बाद डिलीवरी की गई।  पीड़िता ने अस्पताल में स्टेटमेंट फॉर्म पर महाराष्ट्र पुलिस को पूरी घटना की सूचना दी। घटना दिसंबर 2020 में हुई थी। तदनुसार सेवाग्राम पुलिस स्टेशन ने एफआईआर नंबर दर्ज किया और इसे भिवाड़ी पुलिस को भेज दिया। पुलिस टीम ने आरोपी, पीड़िता और अस्पताल में लिए गए भ्रूण का डीएनए सैंपल लेने के लिए महाराष्ट्र का दौरा किया।

पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला है कि दोनों भाई दिन भर फोन का इस्तेमाल करते रहे।  इस दौरान उसके कुछ बुरे संबंध बन गए और वह पोर्न देखने लगा।  खेल में दोनों एक दूसरे के साथ संबंध स्थापित करते हैं।  इन दोनों को अपराध के बारे में कोई जानकारी नहीं है। अभी तक यह सामने नहीं आया है कि उन्होंने इसे कितनी बार किया।

यदि आपका बच्चा मोबाइल उपकरणों या किसी अन्य प्रकार के उपकरण का उपयोग करता है तो कृपया बार-बार चेक इन करना जारी रखें।  कृपया इन लिंक्स और संसाधनों को हटा दें ताकि बच्चे उन तक न पहुंचें।  प्रोग्राम की मदद से अश्लील लिंक को ब्लॉक करें।  बच्चों के स्क्रीन के सामने बिताने का समय कम करें।  उनके साथ समय बिताएं।

भिवाड़ी की मनोचिकित्सक डॉ प्रतिभा स्वामी का कहना है कि कोरोना के कारण बच्चे अपना अधिकांश समय मोबाइल उपकरणों और इंटरनेट पर ऑनलाइन पढ़ाई खालीपन और एक ही स्थान पर बंद रहने के कारण व्यतीत करते हैं। इनमें से कई घटनाएं लॉकडाउन के दौरान सामने आई हैं। 3 महीने पहले रायसिंग नगर गांव में 12 साल के लड़के ने अपनी 6 साल की बहन के साथ रेप किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.