OMG! नई दुल्हन के कपड़े फाड़ कर सास ससुर के सामने प्राईवेट पार्ट में डाली मिर्ची

जानने के लिए आगे पढ़े…

आज भी कई जगहों पर दहेज बेटी को पिता आज भी ढेर सारे उपहार, आभूषण, कपड़े, वाहन या नगदी देते हैं। ताकि उसे ससुराल में कोई परेशानी न हो। लेकिन दहेज के चाहने वाले अपना पेट कहाँ भरते हैं? राजस्थान के बेलवाड़ा की 19 वर्षीय महिला प्रिया से जुड़े दहेज उत्पीड़न और मौत के मामले का पर्दाफाश हुआ है।

दहेज का दावा करने का आरोप

19 साल की प्रिया ने ढाई महीने पहले जहापुर शहर के बंदर गांव के विक्रम के साथ सात रन बनाए थे। लेकिन, शादी के कुछ महीने बाद एमबीएस कोटा अस्पताल में उनका निधन हो गया।  मरने से पहले प्रिया ने अपने साथ हुई क्लास का इशारा करते हुए एक वीडियो बनाया था।

प्रिया ने अपने वीडियो में दावा किया कि उसे जबरन जंगल में ले जाया गया और कपड़े उतारकर पहले अपनी सास के सामने लाया गया।  फिर लाल मिर्च को अपनी तरफ से लगाने की कोशिश की गई। इससे उसे बहुत दुख होता है।  किसी तरह प्रिया वहां से भागी और अपने पिता को बुलाकर पूरा हाल बताया। तभी किसी ने प्रिया के हाथ से फोन लिया और काट दिया।  कुछ देर बाद पिता को सूचना मिली कि उनकी बेटी ने जहर खा लिया है और उसे इलाज के लिए बेलवाड़ा ले जाया जाएगा।

दूसरे वीडियो में प्रिया ने पूरी सच्चाई बता दी

प्रिया के पिता, बिरोलाल बलवाड़ा पुलिस लाइन्स में एक पुलिस प्रमुख के रूप में काम करते हैं। मरने से पहले उन्होंने अपनी बेटी का दूसरा वीडियो भी फिल्माया जिसमें उसने रिश्तेदारों से बात करते हुए कहा कि उसकी सास के सामने उसके सारे कपड़े फाड़ दिए गए। जबरदस्ती जहर दिया।  लेकिन अपने मन की बात कहते हुए वह चुप रहे।

पिता बिरोलाल ने कहा कि उनकी 5 बेटियां और दो बेटे हैं। उन्होंने इसी साल नवंबर में प्रिया से शादी की थी।  शादी में उन्होंने 4 गोल्डन टोला, टीवी, रेफ्रिजरेटर और डबल बेड समेत कई घरेलू सामान जोड़े। लेकिन, शादी के 5-7 दिन बाद ही उसके ससुराल वालों ने उसे पीटना शुरू कर दिया और छह गुफाओं की मांग की। बागोर थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद भी उसके साथ मारपीट होती रही।

इसके बाद वह परेशान हो गई और अपनी मां के घर लौट गई। लेकिन 18 जुलाई को प्रिया पति की बात सुनकर ससुराल लौट गई। हालांकि 19 जुलाई को उन पर फिर हमला किया गया।  इसके बाद प्रिया ने बंदर थाने में शिकायत दर्ज कराई और इस्तीफे के बाद प्रिया को उसके ससुराल ले जाया गया।

लेकिन, प्रिया के भीलवाड़ा की जगह एमबीएस के कोटा में भर्ती होने के बाद ससुराल चले गए। बेटी एक दिन से अस्पताल में अकेली थी।  प्रिया का परिवार वहां जाता है और पता लगाता है कि वह वहां क्यों है। फिर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया और मामले की जांच शुरू कर दी।

आजकल का जमाना बहुत आधुनिक है लेकिन हमारे समाज में दहेज प्रथा अभी भी लोगों को बंद कर देती है।  इतना ही नहीं देश की कितनी लड़कियां आज भी इस काली प्रथा के आगे झुक जाती हैं। हाल ही में दहेज प्रथा जैसा मामला सामने आया था। जिसे सुनकर कोई भी पिता अपनी बेटी की शादी करने से डरता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.