एक व्यक्ति के बैंक खाते में गलती से डाले 13000 करोड़, वापिस मांगने पर किया इंकार

जानने के लिए आगे पढ़े…

क्रिसमस के दिन अंग्रेजी बैंक सैंटेंडर ने एक भयानक गलती की।  बैंक ने अपने 2,000 ग्राहकों के खातों से विभिन्न बैंकों में 75,000 लोगों के खातों में 1,300 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए।

अगर अचानक आपके बैंक खाते में हजारों रुपये आ जाएं तो आपकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहेगा।  ऐसा ही कुछ इंग्लैंड में हुआ।  यहां 1300 करोड़ अचानक 75,000 लोगों तक पहुंच गए।  उसके बाद इन लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।  हालांकि बाद में उन्हें पता चला कि यह बैंक की गलती के कारण हुआ था, अब इनमें से ज्यादातर लोग बैंक को पैसा वापस नहीं करना चाहते हैं।

लोगों के खातों में भेजे गए 1.3 अरब रुपये

प्रेस रिपोर्ट्स के मुताबिक क्रिसमस के दिन इंग्लिश बैंक सेंटेंडर ने एक बड़ी गलती कर दी। बैंक ने अपने ग्राहकों के 2,000 खातों से अलग-अलग बैंकों में 75,000 लोगों के खातों में 1,300 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए।  हालांकि जब बैंक को अपनी गलती का अहसास हुआ तो उन्होंने रिफंड मांगा, कई खाताधारक अब पैसा वापस करने को तैयार नहीं हैं।

यह विफलता 25 दिसंबर को बैंको सैंटेंडर की ओर से हुई।  हैरानी की बात यह है कि बैंक ने प्रतिद्वंद्वी बैंकों जैसे बार्कलेज, नेटवेस्ट, एचएसबीसी, को-ऑपरेटिव बैंक और वर्जिन मनी के खाताधारकों को 1.3 अरब रुपये भेजे।  अब जबकि बहुत से लोग अपना पैसा वापस नहीं चाहते हैं, बैंको सैंटेंडर को इस बात की चिंता है कि उनका पैसा कैसे वापस लिया जाए।

बैंक कड़े कदम उठाने पर विचार कर रहा है

बैंको सैंटेंडर अब धन की वसूली के लिए कठोर उपाय करने पर विचार कर रहा है। वर्तमान में बैंक के दो चैनल हैं।  बैंक ग्राहकों से डर के मारे पैसे वसूलते हैं, या लोगों के पास जाकर प्यार के लिए पैसे की मांग करते हैं।

आपको बता दें कि ग्रेट ब्रिटेन में एक कानून है, जिसके अनुसार एक बैंक ग्राहकों से गलती से भेजे गए पैसे की वसूली कर सकता है।  अगर ग्राहक पैसे वापस करने से इनकार करते हैं तो बैंक उनके खिलाफ मामला दर्ज कर सकता है, जिसके बाद दोषी ग्राहक को 10 साल की सजा हो सकती है।

आपको बता दें कि यूएस सिटी बैंक इससे पहले भी ऐसी ही गलती कर चुका है।  उन्होंने एक बार गलती से कॉस्मेटिक्स कंपनी रेवलॉन के उधारदाताओं को 900 मिलियन डॉलर ट्रांसफर कर दिए थे।  उसके बाद बैंक 500 मिलियन डॉलर की वसूली नहीं कर सका।  पैसा वसूलने के लिए बैंक कोर्ट भी गया था।  हालांकि अमेरिकी कोर्ट ने बैंक को इसकी वसूली नहीं करने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.