कबूतरों को दाना डालने से हो सकती है मौत‌‌, जानिए बड़ी वजह

जानने के लिए आगे पढ़े

आज के टाइम में कबूतरों को खाना खिलाना एक धार्मिक कार्य माना जाता है। आपने कई लोगों को सुबह-शाम कबूतरों को खाना खिलाते देखा होगा। लोग मंदिर के बाहर अपने घरों की बालकनी में कबूतरों को खाना खिलाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कबूतरों को खिलाने से इंसानों को कितना नुकसान होता है? जब आप कबूतरों को खाना खिलाते हैं तो आपको कोई गंभीर बीमारी हो सकती है।

जी दरअसल इन दिनों गिव मी ट्रीज ट्रस्ट के संस्थापक पीपल बाबा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में पीपल बाबा कबूतरों को खाना खिलाने की बात करते हैं. पीपल बाबा का कहना है कि कबूतर एक ऐसा पक्षी है जो छोटे-छोटे कीड़ों को खाकर बच जाता है। लेकिन ऐसा करके लोग अवांछित खतरों को आमंत्रित करते हैं।

क्योंकि अगर कबूतर को सही तरीके से खिलाया जाए तो वह एक साल में 12 किलो वजन कम कर लेता है। पीपल बाबा बताते हैं कि इनमें से कुछ परजीवी चुकंदर में पैदा होते हैं जो हवा में संक्रमण फैलाते हैं, जिससे मानव फेफड़ों को काफी नुकसान होता है। अस्थमा के कारण क्या हैं? इसके अलावा आपके घर के आसपास बने कबूतरों के घोसले भी आपको जोखिम में डालते हैं।

शोध से पता चला

पीपल बाबा के अनुसार चुकन्दर सूखने के बाद चूर्ण का रूप ले लेता है जो श्वास के द्वारा हमारे अन्दर तक पहुँच जाता है। इससे फेफड़ों की गंभीर बीमारी होती है। इसके अलावा कबूतरों पर किए गए शोध में यह भी सामने आया है कि इनके बीट्स से कई तरह की बीमारियां पैदा हो सकती हैं।

तो कबूतरों को क्या खिलाएं?

ऐसे में पक्षी कल्याण कई तरह से किया जा सकता है। कबूतरों को खिलाने के बजाय आप उन्हें पानी दे सकते हैं। आप कबूतरों के लिए पानी फ्री बैच में उनके घरों से दूर रख सकते हैं। क्योंकि यह कबूतरों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होगा। इसके अलावा, यह कई गंभीर बीमारियों के प्रसार को रोक सकता है।

फिर क्या करें?

पक्षियों का भला करने के और भी कई तरीके हो सकते हैं। मैं तुमसे कहता हूं कि कबूतर को मत खिलाओ। वैकल्पिक रूप से, आप उन्हें पानी दे सकते हैं। आप अपने घरों से दूरी बनाकर खाली जगहों पर कबूतरों के लिए पानी रख सकते हैं। यह कबूतरों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होगा। साथ ही ऐसा करने से आप कई गंभीर बीमारियों को फैलने से रोक सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.