इतना बड़ा चमत्कार, आम के पेड़ में दिखी गणेश जी की आकृति – देखे वीडियो

जानने के लिए आगे पढ़े…

जमुई जिले के लक्ष्मीपुर जिले के एक गांव में स्थित एक आम के पेड़ में भगवान गणेश जैसे चरित्र के प्रकट होने से गांव का माहौल भक्तिमय हो गया। इस बात की जानकारी ग्रामीणों को होते ही वे पेड़ के पास पहुंचे और पूजा-अर्चना करने लगे।  जोराह गांव में आसपास के गांवों के निवासी भी पहुंचने लगे।

बिहार के जमुई जिले में एक अनोखी घटना सामने आई है। आम के पेड़ में भगवान गणेश जैसी आकृति को देखकर स्थानीय लोग भक्ति में लिप्त हो जाते हैं।  पेड़ के पास पहुंचते ही लोग मूर्ति की पूजा करने लगे।  जमुई जिले के लक्ष्मीपुर जिले के गोरा गांव में मंगलवार को लोगों ने एक आम के पेड़ में भगवान गणेश की प्रतिकृति के रूप में एक आकृति की पूजा शुरू कर दी।

पेड़ के तने में भगवान गणेश के प्रकट होने की खबर के बाद, आसपास के क्षेत्र के सैकड़ों लोग वहां पहुंचे और अगरबत्ती और अगरबत्ती जलाकर भक्ति में लगे और ग्रामीणों ने इसे भगवान का चमत्कार मानकर पेड़ और आकृति की पूजा करना शुरू कर दिया।  इसे बनाने वाले लोगों का मानना ​​है कि यह संख्या भगवान गणेश के लिए है जो उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

दरअसल, मंगलवार की दोपहर गांव के कुछ बच्चे आम के पेड़ की छाया में खेल रहे थे, तभी एक बच्चे की नजर बाहर पेड़ के तने पर पड़ी आकृति पर पड़ी। दूसरे लड़कों ने भी देखा।  यह बात धीरे-धीरे पूरे गांव में जंगल की आग की तरह फैल गई।  उसके बाद बड़ी संख्या में ग्रामीण आम के पेड़ के पास आ गए। 

उसके बाद, लोग भगवान गणेश के रूप में सूंड पर दिखाई देने वाली आकृति की पूजा करने लगे।  लोगों ने पहले इस आकृति को गंगा जल से धोया और फिर जोस और अगरबत्ती जलाकर उसकी पूजा की।  इसकी जानकारी जब आसपास के ग्रामीणों को हुई तो वे भी पहुंच गए।

ग्रामीण अब वहां मंदिर बनाने की बात कर रहे हैं।  जिस जमीन पर आम के पेड़ में भगवान गणेश की मूर्ति मिलती है वह गौरा गांव के रामदेव साव और सुधीर साव की है।  कहा जाता है कि समुदाय के अनुरोध पर दोनों लोग वहां मंदिर बनाने को भी तैयार हैं। ग्रामीण विश्वनाथ मंडल ने बताया कि जब उन्हें सूचना मिली कि पेड़ से भगवान गणेश की मूर्ति निकली है तो वह गोरा गांव दर्शन करने आए थे। यह किसी चमत्कार से कम नहीं है।  गांव के ज्वेल्स सु और सतु साव ने बताया कि पेड़ में भगवान गणेश की आकृति मिलने के बाद करीब एक हजार लोगों ने यहां आकर पूजा-अर्चना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.