शादी के बीचो बिच ससुराल वालो ने रखी शर्त, तंग आकर दुल्हन ने उठाया बड़ा कदम

जानने के लिए आगे पढ़े…

ग्वालियर समाचार: मध्य प्रदेश के ग्वालियर (ग्वालियर क्राइम न्यूज) से एक भयावह मामला सामने आया है।  दरअसल, बांके सऊदी फ्रांसी से फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर डिप्टी कमांडर ट्रेनिंग में एक युवती आई थी और जब पत्र की जांच की गई तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ। 

पुलिस का कहना है कि कार्यक्रम की मदद से लड़की ने अपना नाम बीएसएफ की चेकलिस्ट में जोड़ा और एक झूठा दिनांकित पत्र प्राप्त किया।  दरअसल लड़की की शादी तय हो गई थी।  उसके ससुराल वालों ने यह शर्त रखी थी कि वे केवल उसके दामाद, अधिकारी को ही चाहते हैं। 

उन्होंने कहा कि जब आप बहू को वर्दी में देखेंगे तो शादी होगी।  अपने अनुरोध को पूरा करने के लिए, लड़की ने बांके सऊदी फ्रांसी से एक फर्जी नियुक्ति पत्र तैयार किया।  लेकिन शादी से कुछ समय पहले ही उनकी चालाकी सबके सामने आ गई थी।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक भयावह मामला सामने आया है।प्यार में पड़ी एक छोटी लड़की ने किया ऐसा कारनामा, जिसे जानकर आप रह जाएंगे हैरान  लड़की ने अपनी शादी का सपना देखा था, लेकिन अब उसे जेल का सामना करना पड़ा। जब उनकी असलियत सामने आई तो सभी दंग रह गए।

फर्जी नियुक्ति पत्र के साथ सहायक कप्तान को प्रशिक्षित करने बीएसएफ में आई युवती के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है।  पुलिस पूछताछ में पता चला कि युवती ही इस घोटाले की मास्टरमाइंड थी।  लड़की ने कार्यक्रम की मदद से बीएसएफ की चयन सूची में अपना नाम जोड़ा और फर्जी डेट लेटर बनाया।

आरोपी लड़की ने पुलिस को बताया कि उसकी शादी तय हो गई थी, लेकिन उसके ससुराल वालों की हालत यह थी कि वे उसकी आधिकारिक बहू चाहते थे।  इसका मतलब है कि अधिकारी अपने बेटे की शादी लड़की से करेगा।  ससुराल वालों के अनुरोध को पूरा करने के लिए लड़की ने बांके सऊदी फ्रांसी से फर्जी नियुक्ति पत्र तैयार किया।

महाराष्ट्र: कोल्हापुर की रहने वाली लड़की सनमती कोशरी फर्जी नियुक्ति पत्र के साथ सहायक कमांडर प्रशिक्षण लेने के लिए 21 फरवरी को बीएसएफ अकादमी आई थी।  नियुक्ति पत्र पर सऊदी ब्रिटिश बैंक के उप महानिरीक्षक डीके उपाध्याय ने हस्ताक्षर किए। यह देख समुद्री सुरक्षा बल के अधिकारी हैरान रह गए।

दरअसल, उपाध्याय दस साल पहले 2012 में सेवानिवृत्त हुए थे। समुद्री सुरक्षा बल के अधिकारी इस लड़की को लेकर अंतरी थाने आए और प्राथमिकी दर्ज कराई। पुलिस पूछताछ में लड़की ने बताया कि गोवा में रहने वाले फ्रांसीसी सेंट्रल बैंक के एक सेवानिवृत्त अधिकारी ने उसे ढाई टन सोना और 20 हजार रुपये का नियुक्ति पत्र दिया था।

इस बात की पुष्टि के लिए पुलिस कोल्हापुर और गोवा आई, लेकिन जांच में यह कहानी झूठी निकली। अंत में पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो लड़की ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। लड़की ने कहा कि उसने बीएसएफ शो की चयन सूची के साथ खिलवाड़ करके नाम जोड़ा और फिर एक फर्जी तारीख पत्र जमा किया।

लड़की ने कहा कि जिस लड़के से उसने शादी करने की व्यवस्था की थी, वह उसकी आधिकारिक बहू चाहता था। उसने उसे शादी के लिए पाला, लेकिन उसके ससुराल वालों ने जोर देकर कहा कि बहू बीएसएफ में भर्ती हो जाए और फिर शादी कर ले।  तो वह प्रशिक्षण के लिए गई, लेकिन गार्ड से पकड़ा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.