बड़ी खबर: सरकार 12वी पास विद्यार्थियों को दे रही है Free स्कूटी – 20 लाख बच्चो के नाम दर्ज

जानने के लिए आगे पढ़े…

मेरी प्यारी बहनों, आपको यह जानकर प्रसन्नता होगी कि राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ‘मेधावी छात्र मुफ्त स्कूटी योजना’ की शुरुआत की है।  जिसे तत्कालीन प्रधानमंत्री अशोक गिलोट  राजस्थान के जयपुर के मांडा जिले में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा 10 और 12 की परीक्षाओं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली अनुसूचित जनजाति की छात्राओं को सरकार की ओर से नि:शुल्क सहायता मिलेगी।

इस योजना को कालीबाई भील मेधावी छात्र स्कूटी योजना 2022 के नाम से भी जाना जाता है। आपको बता दें कि मेधावी छात्र स्कूटी योजना राजस्थान 2022 के तहत ऑनलाइन पंजीकरण / पंजीकरण की समय सीमा अब 08/31/2022 तक बढ़ा दी गई है।

इस मुफ्त राजस्थान सूक्ति योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य की लड़कियों को पढ़ाई के क्षेत्र में प्रोत्साहित करना है। ताकि छात्राओं को इस योजना का लाभ कठिन अध्ययन कर परीक्षा में अधिक अंक प्राप्त करने में मदद मिल सके। “फ्री स्कूटी स्कीम 2022” के तहत राज्य के आदिवासी क्षेत्रों में छात्राओं को मुफ्त स्कूटर प्रदान किया जाएगा। 

इन लड़कियों को मुफ्त बाइक देने का मुख्य उद्देश्य यह है कि कई लड़कियां कहीं दूर और परिवहन के कारण स्कूल या कॉलेज नहीं जा पाती हैं। इन लड़कियों को भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। पात्रता आवश्यकताएँ मेधावी छात्र स्कूटी योजना 2022 दस्तावेज़ सूची / लाभार्थी सूची ऑनलाइन फॉर्म और नवीनतम तिथि की जानकारी के लिए कृपया इस लेख को अंत तक ध्यान से पढ़ें।

अब सभी लड़कियों को सरकार की ओर से मुफ्त परिवहन मिलेगा और इन छात्रों को स्कूल और विश्वविद्यालय जाने में कोई परेशानी नहीं होगी। राजस्थान में कई गरीब लड़कियां हैं जो मोटरसाइकिल खरीदने का खर्च नहीं उठा सकती हैं।  लेकिन अब सरकार भी एक समस्या को खत्म करने की कोशिश कर रही है। लड़कियों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने का अवसर देना।

ताकि इन गरीब लड़कियों को पढ़ाई जारी रखने में कोई परेशानी न हो।  स्कूटी योजना 2022 में पात्र छात्रों की सूची में शामिल होने के लिए पात्र छात्र को ई-मित्र केंद्र पर जाकर एसएसओ आईडी के माध्यम से पंजीकरण कराना होगा। तभी छात्र राजस्थान स्कूटी योजना फॉर्म को पूरा कर सकता है। कृपया मेरियस स्टूडेंट स्कूटी 2022-22 प्रोग्राम की अंतिम तिथि की जानकारी नीचे दिए गए सेक्शन में देखें।

मेधावी छात्र स्कॉटी योजना लक्ष्य 2022

आपको बता दें कि राजस्थान मेधावी बालिका स्कूटी योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य, कक्षा 10 और 12 में पढ़ने वाले छात्र। जिन्होंने परीक्षा में 75% से अधिक अंक प्राप्त किए हैं। उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा नि: शुल्क वितरित किया जाएगा। जैसा कि आप जानते हैं कि लड़कियों को स्कूलों और विश्वविद्यालयों से दूरी के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।  इसी को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार ने मेधावी छात्राओं के लिए फ्री स्कूटी योजना 2022 शुरू की है।  जिससे छात्राओं को भी उच्च शिक्षा मिल सके और उनका भविष्य उज्जवल हो सके।

कालीबाई की स्कूटी योजना क्या है?

आपको बता दें कि राजस्थान कालीबाई भील छात्र स्कूटी योजना सरकार के तहत ईबीसी (माध्यमिक शिक्षा मंत्रालय) और एससी (सामाजिक न्याय मंत्रालय) लड़कियों के लिए मुफ्त स्कूटर प्रदान किया जाता है।  इसके लिए छात्र को पहले आवेदन करना होगा।  यदि आपका नाम योजना के तहत लाभार्थियों की सूची में आता है।

तो सरकार आपको मुफ्त में मौका देती है।  काली बाई भील मेधावी स्कूटी योजना लागू करने की तिथि 2020-21 बढ़ा दी गई है।  अब स्कूटी अविकसित अर्थव्यवस्था योजना 2020-21 के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 31.08.2022 निर्धारित की गई है।  लाभार्थी छात्र कालीबाई भील मेधावी छात्र स्कूटी योजना 2022 के तहत आधिकारिक वेबसाइट hte.rajasthan.gov.in पर जाकर ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं।

मेधावी छात्र स्कूटी योजना राजस्थान के लिए पात्रता आवश्यकताएँ – बहनों, अब आप सोच रहे होंगे कि मुफ्त स्कूटी योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें।  इसके लिए रेटिंग क्या होगी?  इससे क्या लाभ होंगे?  यह सारी जानकारी आपको इस लेख में प्रदान की जाएगी।  कृपया मेधावी छात्र स्कूटी योजना राजस्थान लेख को ध्यान से पढ़ना जारी रखें।

राजस्थान सरकार ने इस योजना से लाभान्वित होने वालों के लिए कुछ शर्तें निर्धारित की हैं।इस प्रणाली से लाभान्वित होने वाली छात्राएं राजस्थान की नागरिक होनी चाहिए। आवेदक के पास राजस्थान राज्य निवास प्रमाण पत्र होना चाहिए।

मुफ्त मोटरसाइकिल योजना का लाभ उठाने के लिए एक छात्र को 10वीं और 12वीं कक्षा में 75% से अधिक ग्रेड के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।  इसके अलावा छात्र को उच्च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय में प्रवेश प्राप्त होना चाहिए।

इस व्यवस्था का लाभ उठाने के लिए लड़कियों को अनुसूचित सामाजिक वर्गों और जनजातियों से संबंधित होना चाहिए।विवाहित छात्राएं इस योजना का लाभ उठा सकती हैं। आवेदक के माता-पिता को किसी भी सरकारी नौकरी में काम नहीं करना चाहिए।छात्र के परिवार की वार्षिक आय 2 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.