हैवानियत की सारी हदे पार – 4 लोगो ने मिलकर किया बड़ी छिपकली (Monitor Lizard) का रेप

जानने के लिए आगे पढ़े…

महाराष्ट्र में गोथन गांव के पास सह्यादारी टाइगर रिजर्व में एक बंगाली मॉनिटर छिपकली से कथित रूप से बलात्कार करने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।  अवैध शिकारियों के रूप में पहचाने गए आरोपियों पर गोठान के जाभा जिले के सह्याद्री टाइगर रिजर्व के कोर एरिया में घुसकर जघन्य अपराध करने का आरोप है।

तीनों आरोपियों की पहचान संदीप तुकाराम पवार, मंगेश कामतकर, अक्षय कामतकर और रमेश तुकाराम गग के रूप में हुई है।  आरोपियों को शुरू में महाराष्ट्र वन विभाग ने अवैध शिकार के आरोप में गिरफ्तार किया था। जब वे जंगल में घूमते हुए सीसीटीवी स्क्रीन पर पकड़े गए थे।  जब अधिकारी संदिग्धों के सेल फोन ब्राउज़ कर रहे थे। तो उन्हें एक वीडियो क्लिप मिली जिसमें बंगाली घड़ी की छिपकली को हैक करते हुए दिखाया गया था।

मनोचिकित्सकों और कानूनी विशेषज्ञों की मदद

वन विभाग ने प्रतिवादी के पास से दुर्घटना में प्रयुक्त दो बाइक। एक पिस्टल और एक बैटरी जब्त की है।  वन प्रबंधन की टीम इस मामले में सख्त कार्रवाई के लिए मनोचिकित्सकों और कानूनी विशेषज्ञों की राय ले रही है।

अधिकारियों के अनुसार, प्रतिवादी ने न केवल साढ़े चार फुट की बंगाली घड़ी छिपकली का बलात्कार किया। बल्कि सामूहिक बलात्कार को भी रिकॉर्ड किया। अधिकारी ने कहा कि मामला तब प्रकाश में आया जब 31 मार्च को उन लोगों के खिलाफ उड़ान सूचना रिपोर्ट दर्ज की गई जो अवैध रूप से जंगल में प्रवेश कर रहे थे।  उन्होंने कहा कि आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

अधिकारियों के मुताबिक आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा और उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी। बंगाली घड़ी छिपकली वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत आरक्षित एक प्रजाति है। अगर दोषी ठहराया जाता है। तो आरोपी को सात साल तक की जेल हो सकती है।

बंगाल मॉनिटर एक बड़ी छिपकली है जो भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ दक्षिण पूर्व एशिया और पश्चिमी एशिया के कुछ हिस्सों में पाई जाती है।  यह बड़ी छिपकली मूल रूप से एक जंगली जानवर है।  इसकी कुल लंबाई लगभग 61 से 175 सेमी (24 से 69 इंच) तक होती है।

घटना को उसी फोन से रिकॉर्ड किया गया था जिसमें चार प्रतिवादियों में से एक के साथ बलात्कार होते हुए दिखाया गया था।  जांच के बाद, अन्य तीन प्रतिवादियों को बाद में रत्नागिरी जिले के हटीफ गांव में गिरफ्तार किया गया था।  इनके पास से वन अधिकारियों को दो पिस्टल और दो मोटरसाइकिल भी मिली हैं।  अधिकारियों के मुताबिक आरोपी कोल्हापुर के चंदोली गांव के कोंकण मत्स्य पालन से आया था।

अधिकारियों ने अब इस मामले को कानूनी विशेषज्ञों के साथ उठाने का फैसला किया है ताकि उन पर पशु बलात्कार के लिए लगाए जाने वाले प्रासंगिक आरोपों पर चर्चा की जा सके। अधिकारियों के मुताबिक आरोपियों को अदालत में लाया जाएगा और उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बंगाल मॉनिटर छिपकली वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत एक संरक्षित प्रजाति है। अगर दोषी ठहराया जाता है। तो प्रतिवादी को सात साल की जेल की सजा हो सकती है। वहीं सोशल नेटवर्क पर खबर आते ही लाल गुस्से से पूछते हैं कि वासना छिपकली के पास न रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.