कुछ ही पैसो से घर के गमले में लगाए कड़ी पत्ता और कमाए लाखो रुपये – जानिए कैसे

जानने के लिए आगे पढ़े…

तेजपत्ता भारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाले मसालों में से एक है। जिसके साथ व्यंजन बहुत अच्छे लगते हैं।  तेज पत्ते का उपयोग मांसाहारी सब्जी के व्यंजन बनाने के लिए किया जाता है।  इसके अलावा, इसका उपयोग सब्जियों, फलियां आदि को सीजन करने के लिए भी किया जाता है।

अब तेज पत्ते के इतने अधिक उपयोग के बाद यह अनिवार्य है कि हर कोई इसे खरीदने के लिए बाजार का रुख करेगा।  लेकिन इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के बाद आपको लॉरेल खरीदने के लिए बाजार जाने की जरूरत नहीं है। जी हां, इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे ही गार्डनिंग टिप्स बताने जा रहे हैं। जिन्हें अपनाकर आप घर में भी आसानी से गमले में बे प्लांट लगा सकते हैं।  तो आइए जानते हैं तेजपत्ता उगाने की मूल बातें: तेज पत्ते को घर पर आसानी से उगाएं।

सही बीज चुनें

जैसा कि आप जानते हैं कि किसी भी बीज या पौधे को उगाने के लिए अपने बीजों का सही होना बहुत जरूरी है। क्योंकि अगर बीज गलत है, तो कितना भी मुश्किल क्यों न हो। पौधा ठीक से विकसित नहीं होगा। ऐसे में आप तेज पत्ते के पौधों के लिए सही बीज का चयन करने के लिए किसी बीज की दुकान पर जा सकते हैं। बीज की दुकानों पर कई प्रकार के बीज आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं।  आप तेज पत्ते उगाने के लिए तेज बीज भी चुन सकते हैं।

मिट्टी की तैयारी

लॉरेल के लिए सही बीजों का चयन करने के बाद मिट्टी तैयार करना भी जरूरी है।  मिट्टी तैयार करने के लिए सबसे पहले आप जिस जगह पर बीज बोना चाहते हैं वहां मिट्टी खोदकर 1-2 दिन के लिए छोड़ दें।  अब एक कप कम्पोस्ट डालें अच्छी तरह मिलाएँ और बे बीजों को लगभग 1-2 इंच की गहराई तक मिट्टी में डालें और ऊपर से मिट्टी डालें।  कृपया ध्यान दें कि मिट्टी डालने के बाद पानी डालना चाहिए।

अगर आपके पास तेजपत्ता का पौधा है और उसे गमले में उगाना चाहते हैं तो पहले मिट्टी में कम्पोस्ट या खाद डालकर अच्छी तरह मिला लें।  अब पौधों को बीच में गमले में डालकर अच्छी तरह दबा कर एक तरफ से दूसरी तरफ मिट्टी डाल दें।  अब इसमें एक या दो कप पानी डालें।

सही खाद का प्रयोग करें

जिस प्रकार भोजन हमारे शरीर के लिए आवश्यक है। उसी प्रकार यह भी आवश्यक है कि पौधे सही उर्वरक का प्रयोग करें।  ध्यान रहे कि रासायनिक खादों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि कई बार पौधे अपने प्रयोग से मर जाते हैं।  ऐसे में बेहतर होगा कि कम्पोस्ट खाद का प्रयोग करें।  आप चाहें तो गाय और भैंस के गोबर को खाद के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।  इसके अलावा कम्पोस्ट का भी उपयोग किया जा सकता है।  आप चाहें तो बचे हुए चायपत्ती, बचे हुए चावल, फलों के छिलके आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं।

स्प्कीटनाशक स्प्रे

मौसमी कीड़ों और अन्य कीड़ों को मारने के लिए पौधों को कीटनाशकों का छिड़काव करने की आवश्यकता होती है।  इसके लिए आप प्राकृतिक कीटनाशक स्प्रे का इस्तेमाल कर सकते हैं।  इससे पौधों को ज्यादा नुकसान नहीं होता है।  ऐसा करने के लिए आप इसे नींबू के रस, पुदीने के पत्ते, नीम के पत्ते, सिरका, बेकिंग सोडा आदि चीजों से धुंध बनाकर पौधों पर स्प्रे कर सकते हैं।

बता दें कि तेजपत्ता लगाने के बाद उसे समय-समय पर पानी और खाद देने की जरूरत होती है।  इसके लिए जब पौधा 2 से 3 फीट लंबा हो जाए तो उसके चारों ओर की मिट्टी खोदकर उसमें खाद मिला दें। खाद डालने के बाद समय-समय पर पानी देना न भूलें। जब तक आपका पौधा 2 से 3 फीट लंबा न हो जाए। तब तक इस पर विशेष ध्यान दें, इसे तेज धूप से दूर रखें।  तेज पत्ते को घर पर आसानी से उगाएं।

कभी-कभी पौधों पर खरपतवार भी उग आते हैं और पौधों के बढ़ने के लिए समय-समय पर खरपतवारों को हटाना पड़ता है।  ऐसे में खरपतवारों को साफ रखना चाहिए। आपको बता दें कि 8-10 महीने के अंदर पौधों में खाने योग्य पत्ते बनने लगते हैं। आप चाहें तो पेड़ पर लगे पत्तों को सूखने दे सकते हैं या फिर पत्तों को तोड़कर धूप में रख सकते हैं।

ऊपर दिए गए टिप्स को अपनाकर आप भी आसानी से अपने घर में लॉरेल का पौधा लगा सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो। तो कृपया इसे शेयर करें और ऐसे ही और लेख पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.