जानिए क्यों नहीं परोसी जाती एक थाली में 3 रोटियां एक साथ – क्या है इसके पीछे का राज

जानने के लिए आगे पढ़े…

आपने अक्सर अपने बड़ों को यह कहते सुना होगा कि एक थाली में 3 रोटियां एक साथ नहीं परोसनी चाहिए।  क्या आप ऐसा करने का कारण जानते हैं?  यदि नहीं तो बता दें कि इसके पीछे धार्मिक कारण के अलावा वैज्ञानिक कारण भी है।

जानिए धार्मिक कारणों के बारे में

माना जाता है कि हिंदू धर्म में ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने ब्रह्मांड का विकास किया है। इन तीनों को सृष्टि का रचयिता पालनहार और संहारक माना जाता है। इस दृष्टि से 3 एक शुभ अंक होना चाहिए। लेकिन वास्तव में यह बिल्कुल विपरीत है। पूजा या किसी मिशनरी कार्य की दृष्टि से 3 अंक अशुभ माने जाते हैं। यही वजह है कि थाली में 3 ब्रेड के टुकड़े भी एक साथ नहीं रखे जाते।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार थाली में 3 रोटियां रखना मृतक के लिए भोजन माना जाता है।  इसके पीछे मान्यता है कि जब किसी की मृत्यु होती है तो त्रयोदशी अनुष्ठान से पहले भोजन की थाली में तीन रोटी एक साथ रखने की प्रथा है। यह पेंटिंग मृतक को समर्पित है।  इसे केवल सेवा देने वाला व्यक्ति ही देख सकता है। किसी अन्य व्यक्ति को छोड़कर। इसलिए थाली में तीन टुकड़े रखना मृतक का भोजन माना जाता है और इसे रोकता है।

तीन रोटी खाने के नुकसान

ऐसा माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति किसी और की थाली में 3 टुकड़े रख देता है या खा लेता है। तो उसके मन में झगड़े और विवाद की भावना पैदा हो जाती है।  वहीं अगर विज्ञान की दृष्टि से देखें तो एक साथ ज्यादा खाना खाने के बजाय थोड़ा-थोड़ा करके खाना चाहिए। औसत व्यक्ति के लिए एक बार में एक प्लेट फलियां, सब्जियों की एक प्लेट, 50 ग्राम चावल और 2 रोटियां काफी होती हैं।  अगर आप इससे ज्यादा खाते हैं तो आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

हिंदू धर्म में, त्रिदेवों यानी ब्रह्मा, विष्णु और महेश को इस ब्रह्मांड का निर्माण करने वाला माना जाता है।  उन्हें ब्रह्मांड के निर्माता, समर्थक और संहारक के रूप में वर्णित किया गया है।  इस दृष्टि से 3 शुभ अंक होने चाहिए लेकिन वास्तव में इसके विपरीत।  पूजा या किसी मिशनरी कार्य की दृष्टि से 3 अंक अशुभ माने जाते हैं।  यही कारण है कि खाने के कटोरे में 3 स्पिनर भी एक साथ नहीं रहते।

इसके पीछे मान्यता है कि जब किसी की मृत्यु हो जाती है। तो उनके त्रयोदशी अनुष्ठान से पहले मृतक के नाम पर रखी जाने वाली भोजन की थाली में 3 रोटी रखी जाती है।  तदनुसार प्लेट पर तीन रोल रखना मृतक के लिए भोजन माना जाता है और निषिद्ध है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि अगर कोई व्यक्ति एक थाली में तीन अनाज एक साथ रखकर खाता है तो उसके मन में दूसरों से लड़ने की भावना आती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.