भूल के भी ना करे ये गलतियां जिससे लक्ष्मी माता हो सकती है नाराज़

जानने के लिए आगे पढ़े…

शास्त्रों में, देवी लक्ष्मी को धन और वैभव की देवी माना जाता है और कहा जाता है कि वे एक अस्थिर स्वभाव की हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे हमेशा एक साथ नहीं रहते हैं। मां लक्ष्मी की कृपा पाने वाले व्यक्ति के जीवन में कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होती है। और माँ की कृपा उसे राजा बनाती है, और जो क्रोधित हो जाता है वह उसे एक पद बना देता है।

इनमें से कुछ बातें ज्योतिष में कही गई हैं, इसलिए मां लक्ष्मी हमेशा के लिए घर छोड़ देंगी। क्योंकि हम इनमें से कई गलतियां जानबूझकर या अनजाने में कर देते हैं, जिससे मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। आइए जानते हैं उन गलतियों के बारे में जिनका ध्यान रखना चाहिए ताकि माता लक्ष्मी घर से बाहर न निकलें….

ऐसा करने से माता लक्ष्मी को क्रोध आता है
लोग पूरे घर में गंदे बर्तन बिखरे रहते हैं। ज्यादातर लोग गंदे बर्तनों को रात भर दूर रख देते हैं और सुबह उन्हें धो देते हैं। यह बाइबल के अनुसार उचित नहीं है। हमें कभी भी घर में बर्तन बिखरे नहीं रखने चाहिए, इससे लक्ष्मी जी क्रोधित हो जाती हैं और घर में अधिक समय तक नहीं रहती हैं। इसलिए घर में हमेशा साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए, जिससे मां की कृपा हमेशा बनी रहे।

इस स्थान पर न रखें कूड़ा
शास्त्रों के अनुसार उत्तर दिशा में मुख्य देवता कुबेर हैं और धन की देवी माता लक्ष्मी हैं, जो धन और समृद्धि का प्रतिनिधित्व करती हैं। इस स्थान को मातृ स्थान भी कहा जाता है। इसलिए इस स्थान पर कचरा या बेकार की चीजें नहीं रखनी चाहिए। यह दिशा हमेशा स्वच्छ रहनी चाहिए, यह धन लाती है।

घर का यह हिस्सा सकारात्मक ऊर्जा से भरा रहता है, अगर आप इस जगह बेकार की चीजें रखते हैं, तो देवी लक्ष्मी और कुबेर नाराज होंगे। इस स्थान को खाली रखना या भूमि को बंजर छोड़ना धन और समृद्धि का कारक है।

चूल्हे पर न रखें यह चीज
रसोई गैस में खाली व नकली बर्तन नहीं रखने चाहिए। चूल्हा हमेशा साफ रहना चाहिए। इससे घर में सुख-शांति के साथ समृद्धि आती है और समाज में मान सम्मान मिलता है। पुराणों में कहा गया है कि खाली बर्तन को चूल्हे पर रखने से घर में दरिद्रता आती है। ऐसे लोगों के घरों में सुख-समृद्धि नहीं आती है। मंदिर के बाद रसोई सबसे पवित्र स्थान है और वहां देवता निवास करते हैं।

इस समय झाड़ू लगाना गलत
यदि आप सूर्य के बाद घर में झाडू लगाते हैं तो यह अपशकुन का संकेत माना जाता है। लक्ष्मी झाड़ू पर रहती है और शाम को घर की सफाई और घर से बाहर निकलने पर माँ को गुस्सा आता है। यदि किसी कारणवश झाड़ू का प्रयोग करना पड़े तो घर की गंदगी को घर में ही रखें और सुबह उसे साफ करके फेंक दें।

एक हाथ से कभी भी न करें यह गलती
चंदन को कभी भी एक हाथ से नहीं रगड़ना चाहिए, इससे नारायण भी दरिद्र होते हैं। ऐसा करने से लक्ष्मी जी क्रोधित हो जाती हैं और उन्हें धन की कमी का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा चंदन को पीसकर सीधे भगवान पर अभिषेक नहीं करना चाहिए, यह अच्छा नहीं माना जाता है। सबसे पहले चंदन को एक बर्तन में रखें और फिर देवताओं पर लगाएं।

इनके बिना अधूरी है मां लक्ष्मी जी की पूजा
कहा जाता है कि केवल मां लक्ष्मी की ही नहीं बल्कि भगवान विष्णु की भी पूजा करनी चाहिए। यही कारण है कि इसे लक्ष्मी नारायण कहा जाता है। केवल माता लक्ष्मी की पूजा करने से उनका आशीर्वाद नहीं मिलता है। इसलिए मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की पूजा करें।

इस समय सोने से माँ लक्ष्मी हो जाती है गुस्सा
सोने का समय बाइबिल और पुराणों में निर्दिष्ट है। भोर से पहले उठना और रात को सो जाना बेहतर है। कुछ लोग आलस्य के कारण सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सोते हैं, जो अनुचित है। ऐसा करने से देवी लक्ष्मी क्रोधित हो जाती हैं और घर से चली जाती हैं। शाम को पूजा के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है और इस समय सोना या लेटना अशुभ माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.