अपने ही मालिक को कच्चा चबा जाते है,ये खतरनाक कुत्ते, इन कुतो से हमेशा दूर रहे

जानने के लिए आगे पढ़े…

नई दिल्ली: कुत्तों को इंसानों का सबसे वफादार साथी माना जाता है।कुत्तों की कई नस्लें होती हैं।इनमें से कुछ लोग अपने शौक पूरे करने के लिए कुत्ते पलते हैं। ये देखने में बहुत अच्छा लगता है। वहीं कुछ कुत्तों को सुरक्षा के लिए रखा गया है। यह बहुत बड़ा और भयानक भी है।

इन नस्लों में से एक बेल्जियम मेलोनिज़ है। ये कुत्ते भारत में पुलिस फोर्स में मौजूद हैं। ताकि अपराधियों को जल्द से जल्द पकड़ा जा सके।  इन कुत्तों के घरों में पलने से बचना चाहिए। आइए जानते हैं इन कुत्तों के बारे में।

बेल्जियन मेलोनुआ वही कुत्ता है जिसका इस्तेमाल अमेरिकी राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा के लिए किया जाता था। इसके अलावा, अमेरिकी सैनिकों को भी इन कुत्तों का समर्थन मिला। जिससे वे और मजबूत हुए।  बेल्जियन मेलोनॉइज अपराधियों को पकड़ने में काफी अहम भूमिका निभाते हैं।

अमेरिकी सैनिकों ने सबसे पहले इस नस्ल के कुत्तों का इस्तेमाल ओसामा बिन लादेन को पकड़ने के लिए किया था। इसके बाद अल-बगदादी पर कब्जा करने में बेल्जियम मिलियन ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

भारतीय पुलिस के पास भी हैं ये कुत्ते

भारतीय सेना के पास बेल्जियम मेलोनॉइज भी हैं।  उनका उपयोग मेट्रो स्टेशनों और हवाई अड्डों पर सुरक्षा की जांच के लिए किया जाता है। सीआईएसएफ की बात करें तो ये कुत्ते बम का पता लगाने में काफी मददगार होते हैं। वर्तमान में, CISF मेट्रो में 63 कुत्ते हैं, जिनमें झींगा मछली, जर्मन शेफर्ड और क्रोकर स्पैनियल शामिल हैं। 

लेकिन ये कुत्ते उन बमों का पता नहीं लगा पा रहे हैं जिन्हें आतंकवादी छुपा रहे हैं।  इस कारण से, वे अब बेल्जियम मेलोनोइस को शामिल करते हैं।  साथ ही, ये कुत्ते जर्मन शेफर्ड की तुलना में आकार में छोटे होते हैं, यही वजह है कि इन्हें आसानी से हवाई जहाज में आसानी से ले जाया जा सकता है।  इसको लेकर अब इनकी मांग बढ़ रही है।

यह एक विशेषता है

बेल्जियम मेलोनॉइज में नर की ऊंचाई 24 से 26 इंच है, और मादा की ऊंचाई 22 से 24 इंच है।  वहीं जब वजन की बात आती है तो इनका वजन 20 से 30 किलो के बीच होता है।  वह अपने शिकार को 9 गज की दूरी से ट्रैक कर सकता है।  इसके अलावा, दो फीट की गहराई में छिपी वस्तुओं को भी साँस द्वारा पता लगाया जाता है।

इतना ही नहीं 24 घंटे पहले भी अगर कोई उस जगह से गुजरा तो बेल्जियम मेलोनॉइज को पता चल जाएगा। ये कुत्ते बहुत फुर्तीले होते हैं। वे आसानी से 2-3 फीट ऊंची दीवार को पार कर सकते हैं।

घर में रखना है खतरनाक

भारत में आपको बेल्जियम मेलोनोइस 60 हजार से 85 हजार रुपये में मिलता है। लेकिन इस नस्ल के कुत्तों को पालना खतरनाक हो सकता है। पारिवारिक जीवन के लिहाज से यह खतरनाक है। ये कुत्ते बहुत काटते हैं।  यह आपको खेल में काट सकता है।

अपने आक्रामक अंदाज की वजह से उन्हें सेना में रखा जाता है। ये गुस्से में अपने मालिक को भी काट सकता है। इसलिए इसे घर में पालना खतरनाक साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.