बड़ी खबर: लड़के ने बच्चो की अश्लील तस्वीरें खींच कमाए 26 करोड़ रुपए

जानने के लिए आगे पढ़े…

जब मैं छोटे बच्चों को देखता हूँ तो मन प्रसन्न होता है उनकी मुस्कान और शरारती हरकतें बुरे मूड को भी ठीक कर देती हैं लेकिन दुनिया का एक डार्क वेब हिस्सा भी है जहां चाइल्ड फल-फूल रही है चाइल्ड का मतलब मासूम बच्चों के साथ जबरदस्ती है

दुनिया के लगभग हर देश में चाइल्ड प्रतिबंधित है मासूम बच्चों का शारीरिक जबरदस्ती करना गैर कानूनी है बावजूद इसके कई लोग गुपचुप तरीके से इसका प्रमोशन करते हैं

एरिक ओवेन को 2013 में आयरलैंड में गिरफ्तार किया गया था। उन पर को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया था। एरिक की करीब 85 लाख तस्वीरें मिलीं जो चाइल्ड से जुड़ी थीं। इन फोटोज में नवजात से लेकर 12 साल तक के बच्चे मौजूद थे। इन तस्वीरों को डार्क वेब पर बेचकर उन्होंने करीब 26 करोड़ रुपये कमाए। अब यह ज्ञात हुआ जिसके लिए जिला अदालत ने उन्हें 27 साल जेल की सजा सुनाई।

रिर्पोट के अनुसार, 36 वर्षीय एरिक के पास आयरिश और अमेरिकी दोनों नागरिकताएं हैं। उन्हें 2013 में आयरलैंड में गिरफ्तार किया गया था और 6 साल बाद संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थानांतरित कर दिया गया था। मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजकों ने कहा कि 2008 से 2013 तक एरिक ने एक डार्क वेब बनाया जिस पर उसने लाखों चाइल्ड पोस्ट की। इसमें बच्चों को टॉर्चर करते और उनके साथ रेप करते देखा जा सकता है। कोर्ट ने मामले के दौरान एरिक को दानव कहा था।

पांच साल के भीतर उसने एरिक की बरामद तस्वीरें इंटरनेट पर पोस्ट कर लाखों रुपये कमाए थे। इन तस्वीरों में नवजात से लेकर 12 साल तक के बच्चे शामिल थे। इनमें से कुछ तस्वीरों में बच्चों को बांधकर मार डाला गया। कुछ में तो उन्हें जानवरों से अलग कर दिया गया

तस्वीरों की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट ने एरिक को 27 साल जेल की सजा सुनाई। एरिक ने जज से अपील की और कहा कि सजा को घटाकर 21 साल किया जाना चाहिए क्योंकि वह पहले ही 6 साल जेल की सजा काट चुका है। लेकिन उनके तर्क को खारिज कर दिया गया।

एरिक ओवेन को 2013 में आयरलैंड में गिरफ्तार किया गया था।  उन पर को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया था एरिक की करीब 85 लाख तस्वीरें मिलीं जो चाइल्ड से जुड़ी थीं। इन फोटोज में नवजात से लेकर 12 साल तक के बच्चे मौजूद थे। इन तस्वीरों को डार्क वेब पर बेचकर उन्होंने करीब 26 करोड़ रुपये कमाए। अब इस मामले पर विचार किया गया है। जिसके लिए जिला अदालत ने उन्हें 27 साल जेल की सजा सुनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.