सावधान: बाजार में 500 के असली नोटों से ज्यादा आ चुके है नकली नोट, ऐसे करे पहचान

जानने के लिए आगे पढ़े…

आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक,वित्त वर्ष 2021-22 (FY22) में सभी मूल्यवर्ग के जाली नोटों में इजाफा हुआ है।

पडेट किया गया 28 मई 2022 07:33 अपराह्न।  

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 (FY22) में सभी मूल्यवर्ग के नकली नोटों की संख्या में इजाफा हुआ है। केंद्रीय बैंक की हालिया रिपोर्ट के अनुसार,नकली नोटों की वृद्धि देखने वाले सभी नोटों में,500 रुपये सबसे ज्यादा प्रभावित हुए।पिछले वर्ष की तुलना में,आरबीआई ने 500 रुपये मूल्यवर्ग के101.9%अधिक नकली नोटों और 2,000 रुपये के नकली नोटों में 54.16 प्रतिशत की वृद्धि का पता लगाया।आधार कार्ड अपडेट:जानिए कितने सिम कार्ड आपके आधार से जुड़े हैं। 

यहां बताया गया है कि आप कैसे कर सकते हैं 500 रुपये के नोट की प्रामाणिकता

1.अगर करेंसी नोट पर रोशनी डाली जाए तो आपको खास जगहों पर 500 लिखा हुआ दिखाई देगा। 2.करेंसी नोट पर देवनागरी में 500 भी लिखा होगा। 3.महात्मा गांधी की तस्वीर की ओरिएंटेशन और सापेक्ष स्थिति दाईं ओर शिफ्ट हो जाती है 4.500 रुपये के नोट पर भारत लिखा होगा। 5.जब करेंसी नोट को मोड़ा जाता है,तो सिक्योरिटी हेड का रंग हरे से नील में बदल जाएगा। 6.गवर्नर के हस्ताक्षर,गारंटी क्लॉज,प्रॉमिस क्लॉज और आरबीआई का प्रतीक करेंसी नोट के दाईं ओर चले गए हैं 7.करेंसी नोट पर महात्मा गांधी की फोटो और इलेक्ट्रोटाइप वॉटरमार्क है। 8.नोट पर लिखे 500 रुपये का रंग हरे से नीले रंग में बदल जाता है। 9.करेंसी नोट के दायीं ओर अशोक स्तंभ 10.मुद्रित स्वच्छ भारत लोगो और स्लोगन

2000 रुपये मूल्यवर्ग के बैंक नोटों की संख्या पिछले कुछ वर्षों में लगातार गिरकर 214 करोड़ या इस साल मार्च के अंत में प्रचलन में कुल मुद्रा नोटों का 1.6 प्रतिशत तक पहुंच गई है। मार्च 2020 के अंत में,प्रचलन में 2000 रुपये के मूल्यवर्ग के नोटों की संख्या 274 करोड़ थी,जो प्रचलन में कुल करेंसी नोटों की संख्या का 2.4 प्रतिशत था।मार्च 2021 तक प्रचलन में कुल बैंक नोटों की संख्या 245 करोड़ या 2 प्रतिशत तक गिर गई और पिछले वित्त वर्ष के अंत में 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत तक गिर गई।

500 रुपये के नोट

रिपोर्ट के मुताबिक,इस साल मार्च के अंत में 500 रुपये मूल्यवर्ग के नोटों की संख्या बढ़कर 4,554.68 करोड़ हो गई,जो एक साल पहले की समान अवधि में 3,867.90 करोड़ थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *