सीने में तेज दर्द से परेशान था व्यक्ति – डॉक्टर ने किया ऑपरेशन तो निकाली भयानक चीज

जानने के लिए आगे पढ़े…

मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों के सामने बेहद जटिल मामले पेश किए जाते हैं। जो उनके लिए एक बड़ी चुनौती साबित होती है। लेकिन चिकित्सा विज्ञान बहुत आगे बढ़ चुका है और डॉक्टरों की मदद से मरीजों को नया जीवन देकर उन्हें नया जीवन देते हैं। ऐसा ही एक और मामला सामने आया जिसमें एक व्यक्ति एक नया जीवन जीता है। लेकिन डॉक्टरों को उसके सीने पर कुछ ऐसा मिला। जिसकी कल्पना करना डॉक्टरों के लिए भी मुश्किल है।

आदमी के सीने में लगातार दर्द था।

वास्तव में, 56 वर्षीय को लगातार सीने में दर्द होता था। जिससे उनके लिए सांस लेना भी मुश्किल हो जाता था।  जब वह अपनी समस्या के लिए डॉक्टर के पास आए तो डॉक्टर ने पहले छाती का एक्स-रे किया और उसके बाद सिटी स्कैन किया। जांच करने पर व्यक्ति के फेफड़े के पास एक नुकीली चीज दिल को चीरती हुई नजर आई।

दिल में छेद था

इस नुकीली चीज से उसके दिल में छेद हो गया। जांच रिपोर्ट देखने के बाद भी डॉक्टरों को समझ नहीं आया।  उसके बाद डॉक्टरों ने दिल का ऑपरेशन करने का फैसला किया।

ऑपरेशन किया तो दंग रह गए

जब डॉक्टरों ने उसका ऑपरेशन किया। तो वह हैरान रह गया कि यह नुकीला उपकरण जुड़ा हुआ है।  सीमेंट के इस टुकड़े की लंबाई 10 सेमी थी। इससे मरीज के सीने में लगातार दर्द हो रहा था। जब डॉक्टरों को समझ नहीं आया तो पूरी जांच के बाद भी उन्होंने उस व्यक्ति की आपातकालीन सर्जरी की और दिल और फेफड़े के बीच सीमेंट का एक टुकड़ा निकाल कर छेद कर दिया।

जानिए कैसे सीमेंट का एक टुकड़ा दिल तक पहुंचता है

जब डॉक्टरों को सीमेंट का यह नुकीला टुकड़ा मिला तो उन्होंने मरीज के पुराने मेडिकल रिकॉर्ड की जांच की।  डॉक्टरों ने बताया कि सीने में दर्द की वजह से उन्हें ऑस्टियोपोरोसिस हो गया था। बीमारी के चलते उनके शरीर में रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर हो गया था। उसके इलाज के लिए डॉक्टरों ने कूबड़ को सीधा किया। इस प्रकार के उपचार में रीढ़ की हड्डी में सीमेंट का इंजेक्शन लगाया जाता है।

जिससे हड्डी पहले की तरह ही लंबाई की हो जाती है लेकिन इस स्थिति में रीढ़ की हड्डी से चिपके रहने के बजाय सीमेंट का टुकड़ा शिरा से छाती तक पहुंच जाता है और मुड़ जाता है। 10 सेमी एक तेज टुकड़ा शिरा से होकर गुजरा यह रोगी के हृदय की दीवार के साथ-साथ दाहिने फेफड़े में भी घुस गया। नतीजतन रोगी को लगातार सीने में दर्द और सांस की तकलीफ थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.