अजीब खबर: हॉस्पिटल में मरीज को भयानक बीमारी का बता कर दिए जाते है आलू , जानिए पूरी सच्च

जानने के लिए आगे पढ़े…

डॉ. आर. आर अस्पताल को आरोपित किया गया था। सिन्हा ने हाल ही में वेतनभोगी कर्मचारियों को मरीजों के रूप में चित्रित किया है। उसके बाद से हर दिन इस अस्पताल के बारे में नए-नए खुलासे होते रहे हैं। उन्होंने अस्पताल पर दवा के साथ आलू खरीदने के लिए मरीज पर दबाव बनाने का आरोप लगाया।

अब भाग्यशाली। उत्तर प्रदेश के लखनऊ के ठाकुरगंज जिले में स्थित डॉ. आर आर सिन्हा मेमोरियल अस्पताल में मरीजों के इलाज के अलावा आलू बेचने का प्रोजेक्ट चलाने का भी मामला सामने आया है। दावा किया जा रहा है कि अस्पताल में इलाज करा रहे मधुमेह के मरीज आलू खरीदने को मजबूर हैं। वहीं, अस्पताल के दरवाजे पर आलू की बिक्री का साइन बोर्ड लगा हुआ था।

दरअसल, अस्पताल के डॉ. आर. आर.सिन्हा दिहाड़ी मजदूरों को बीमार बताते हैं।  उसके बाद से हर दिन इस अस्पताल के बारे में नए-नए खुलासे होते रहे हैं।  उन्होंने अस्पताल पर दवा के साथ आलू खरीदने के लिए मरीज पर दबाव बनाने का आरोप लगाया।

अस्पताल के मुख्य द्वार सहित भवन में विभिन्न स्थानों पर शुगर फ्री चिप्स की बिक्री के लिए चिन्ह भी लगाये गये थे।  हालांकि, ये आलू शुगर फ्री हैं या नहीं इस पर कोई शोध नहीं किया गया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह बिना मीठा हुआ आलू यहां 20 रुपये किलो बिक रहा था। वहीं, 5 किलो आलू लेने के लिए 100 की जगह 60 रुपए ही देने पड़ते थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिन किसानों से अस्पताल ने आलू खरीदा उन्हें एजेंट के रूप में काम दिया गया।  ये एजेंट ही थे जिन्होंने मजदूरों को अस्पताल में फुसलाया, उन्हें नकली मरीज बनाया और रिकॉर्ड में डाल दिया। 

दावा किया जाता है कि इन किसानों की मदद से गांव में चिकित्सा शिविर भी आयोजित किए गए, जहां मरीजों को अस्पताल से आउट पेशेंट फॉर्म दिए गए, ताकि बड़ी संख्या में आउट पेशेंट को देखा जा सके। यह तरकीब लंबे समय से बरकरार है, हालांकि अब यह खत्म हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.