4 हाथ पैर वाले अनोखे जन्मे बच्चे को देख लोगो के उड़े होश – देखे वायरल वीडियो

जानने के लिए आगे पढ़े…

सीएम क्षेत्र में अजीबोगरीब बच्चे का जन्म: गजब का बच्चा पूजा के लिए उमड़े लोग और चढ़ावा भी दुनिया छोड़ने के 6 घंटे बाद वो “शिव-रूप”में समा गया।

नालंदा में भगवान शिव का अवतार।  ऐसा हम नहीं कह रहे हैं। बल्कि बिहारशरीफ जिले के सोहसरे थाना के सलीमपुर के लोग मानते हैं।जब यहां एक अद्भुत गंजा लड़का पैदा हुआ। तो लोग वैज्ञानिक पहलुओं के बारे में सोचे बिना विश्वास की भावना से मोहित हो गए। स्थानीय लोगों ने उन्हें भगवान शिव के अवतार के रूप में पूजा करना शुरू कर दिया। भेंट लेने के बाद वे उन्हें लड़के को देने लगे।

नवजात 6 घंटे तक जिंदा रहा।

लालबाबो की पत्नी रानी देवी को रविवार सुबह सलीमपुर कस्बे के रविदास तुला में सुपुर्द कर दिया गया। उसने अजीब तरीके से बच्चे को जन्म दिया।  इसमें बच्चे का सिर फट गया।  चेहरे का आकार भी अजीब था।  यही कारण है कि लोग एक बच्चे में भगवान शिव का रूप देखते हैं।  यह मानते हुए कि नवजात शिशु में भगवान पूजा में लगे हुए थे।  हालांकि 6 घंटे तक जीवित रहने के बाद नवजात की मौत हो गई।

लोगों ने बच्चे को प्रसाद भी चढ़ाया।

यह चिकित्सा की दृष्टि से एक एन्कोफिलिया है।

स्थानीय बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील कुमार के अनुसार गर्भावस्था से पहले मां में फोलिक एसिड की कमी के कारण बच्चे का सिर पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता है।  ऐसा ही इस मामले में भी देखने को मिल रहा है। बच्चे का दिमाग निकला जिसे मेडिकल भाषा में एन्कोफिलोशिप कहते हैं।  नियमित जांच और फोलिक एसिड लेने से इस समस्या से बचा जा सकता है।

मुफस्सल थाना क्षेत्र के गांव हवेलीजंग निवासी की मां।  नवजात के पिता राजू साह ने कहा कि उन्होंने कई अल्ट्रासाउंड किए हैं। अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में इन दिक्कतों का जिक्र नहीं है। उसने कहा कि वह पश्चिम बंगाल से है और उसकी पत्नी हवेलीगांग से है।

सदर अस्पताल के डॉक्टर शशि किरण ने कहा कि वह एक प्यारा बच्चा नहीं होगा। लेकिन उसे शारीरिक रूप से विकलांग कहा जाएगा।  ऐसा बच्चा गर्भावस्था या गर्भावस्था के दौरान किसी कारणवश पैदा होता है।  जिसे ऑपरेशन कर प्रसूता के शरीर से निकाला गया। अगर हम सभी को गर्भावस्था के दौरान इसके बारे में पता होता तो वे इसे खत्म कर देते।

Leave a Reply

Your email address will not be published.