Viral Video: धूम धाम से आयी थी बारात, दुल्हन के आते ही शुरू हुई मारपीट

जानने के लिए आगे पढ़े…

हरियाणा के महेंद्रगढ़ इलाके में देर रात शराबियों द्वारा डीजे पर जोर देने के कारण प्रेमिका के 7 फेरे रोक दिए गए और इसी जिद के चलते दोनों पक्ष एक-दूसरे से मुकर गए।

मामला इतना बढ़ गया कि बिना दुल्हन के बारात वापस लौटनी पड़ी।  हालांकि, दुल्हन की ओर से बेटी के रिश्ते को उसकी रिश्तेदारी के कारण जल्दबाजी में हल किया गया था और उससे शादी करने के बाद उसे घर से निकाल दिया गया था।  मामला पंचायतों को संभालने वाले थाने तक भी पहुंच गया।

बता दें कि महिंद्रागढ़ में पंचमुखी हनुमान मंदिर के पास रहने वाली मेरी दो बेटियों सुरेश कुमार की गुरुवार को शादी होने वाली थी।  एक बेटी ने दिन में खुशी-खुशी शादी कर ली। जबकि दूसरी बेटी की बारात जाजर जिले के बबदुदा गांव से देर रात पहुंची। लेकिन यह बारात बिना दुल्हन के ही लौट जानी चाहिए थी।

लड़की के परिजनों ने बताया कि जाजर जिले से काफिला 11:30 बजे देर से पहुंचा।  फिर दोपहर 12 बजे तक दूल्हा-दुल्हन दरमिशला में रुके।  किसी तरह डीजे के लिए नाच-गाते हुए बारात आगे बढ़ी तो पुलिस ने आकर नियमानुसार रात में डीजे बजाने पर रोक का हवाला देकर डीजे को रोका।

रात में ढोल बजते थे और लड़ाई होती थी

लड़की के चाचा ने बताया कि दूल्हे के कहने पर जैसे ही डीजे बंद हुआ। उसी रात उसने ढोल पीट दिया। लेकिन नशे में धुत जादूगरों ने भी उससे लड़ाई की इसलिए वह भी वापस आ गया।

किसी तरह बारात दोपहर करीब दो बजे घर पहुंची। लेकिन यहां भी शराबियों के कारण हंगामा हुआ।  और बात इतनी बढ़ गई कि दोनों में झगड़ा हो गया और फिर लड़की ने शादी से इंकार कर दिया।  दूल्हे का आरोप था कि लड़की ने अपने परिवार के दबाव में शादी करने से इनकार कर दिया।  सुबह तक नम्रता थी लेकिन बात नहीं बनी।

थाने पहुंचने के बाद पंचायती ने फैसला लिया।

बारात लौटी, लेकिन शुक्रवार की सुबह महेन्द्रगढ़ नगर थाने में दूल्हे पक्ष के कुछ लोग पहुंचे। इसके बाद दोनों पक्षों की सहमति से उनके बीच एक फैसला हुआ और फिर दूल्हा-दुल्हन बिना दुल्हन के लौट आए।

बेटी के हाथ अन्य जगहों पर पीले पड़ जाते हैं।

इधर, जजर के दल के लौटने के बाद शादी में शामिल हुए रिश्तेदारों और रिश्तेदारों के बीच लंबी चर्चा हुई।  बाद में किसी रिश्तेदारी के रोहतक जिले में बेटी की शादी तय कर दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.