बहुत बुरी खबर, लता मागेशेर जी का हुआ निधन, बॉलीवुड में छाया मातम

लता मंगेशकर निधन लाइव अपडेट

लोकप्रिय गायिका लता मंगेशकर, जिन्हें भारत का रत्न और स्वर कोकिला के नाम से जाना जाता है, का 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। लता मंगेशकर के निधन पर दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया। सम्मान की निशानी के रूप में दो दिनों तक आधा राष्ट्र ध्वज झुका रहेगा।

संस्कृति मंत्रालय ने जताया दुख

दिवंगत गायिका भारत रत्न लता मंगेशकर के दुर्भाग्यपूर्ण निधन के बारे में और जानकर बहुत दुख हुआ। ईश्वर से प्रार्थना है कि मृतक की आत्मा और शोक संतप्त परिवार को शक्ति प्रदान करे। उनके गीत संगीत प्रेमियों के दिलों में हमेशा के लिए गूंजेंगे।

उनके जैसा गाना कोई नहीं गा सकता – हेमा मालिनी

लता मंगेशकर एक महान कलाकार और व्यक्तित्व हैं। उन्होंने 200 फिल्मों में अभिनय किया है। मैं भाग्यशाली हूं कि मैंने उनके गाय गीतों में अभिनय किया। उनकी तरह कोई नहीं गा सकता, वह बहुत खास थीं। उनका निधन बेहद दुखद है।

क्या थी असल वजह
डॉक्टरों की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक लता मंगेशकर की मौत मल्टी ऑर्गन फेल्योर की वजह से हुई है।

अंतिम संस्कार शाम 6.30 बजे होगा
करीब साढ़े बारह बजे लता मंगेशकर का पार्थिव शरीर उनके घर पर लाया जाएगा। अंतिम संस्कार आज शाम 6:30 बजे किया जाएगा।राज्य की ओर से पूरे सम्मान के साथ शिवाजी पार्क में।

पाकिस्तानी मंत्री ने जताया दुख

अब किंवदंती नहीं रही, लता मंगेशकर एक भावुक रानी थीं, जिन्होंने दशकों तक संगीत की दुनिया पर राज किया, वह बेजोड़ संगीत रानी थीं और उनकी आवाज हमेशा लोगों के दिलों पर राज करेगी।

वीरेंद्र सहवाग ने जताया खेद
भारत की कोकिला, दुनिया भर के लाखों लोगों के लिए गूँजने और खुशियाँ लाने की आवाज़। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना। ओम शांति।

लता जी दशकों से भारत की पसंदीदा आवाज रही हैं- राहुल गांधी
मुझे लता मंगेशकर जी के निधन का दुखद समाचार मिला। यह कई दशकों से भारत में एक प्रिय ध्वनि बनी हुई है। उनकी सुनहरी आवाज कालातीत है और उनके प्रशंसकों के दिलों में गूंजती रहेगी।

शव घर में रहेगा।
मिली जानकारी के मुताबिक सबसे पहले गायिका के पार्थिव शरीर को घर ले जाया जाएगा। जहां उनका पार्थिव शरीर दोपहर 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक अंतिम दर्शन के लिए रहेगा। उसके बाद शिवाजी पार्क में राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी।

रामनाथ कोविंद जी ने अपनी बातो में कहा की आप हमेशा अमर रहेंगी
ऐसा कलाकार हर सदी में एक बार ही पैदा होता है। lलता दीदी एक असाधारण इंसान थीं, जो गर्मजोशी से भरी थीं। दिव्य आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। लेकिन इसकी धुन अमर रहेगी और हमेशा गूंजती रहेगी। l उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।

प्रधानमंत्री मोदी ने जताया खेद
मुझे शब्दों से ज्यादा दर्द होता है। लता दीदी हमें छोड़कर चली गई हैं। उन्होंने हमारे देश में एक खालीपन छोड़ा है जिसे भरा नहीं जा सकता। उन्हें आने वाली पीढ़ियां भारतीय संस्कृति के एक चैंपियन के रूप में याद करेंगी और उनकी बहादुर आवाज में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की अद्वितीय क्षमता थी।


कोरोना निगेटिव आने के बाद भी क्यों थे हालत खराब?
एन संतानम ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि गायिका को कोरोना वायरस से संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कोरोना का इलाज तो हुआ, लेकिन मौत कोरोना की वजह से नही हुई परेशानी से हुई है। लता मंगेशकर ने सुबह 8:12 बजे अंतिम सांस ली। अब उनके पार्थिव शरीर को शिवाजी गार्डन पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.