पुलिस और महिला के बीच हुए बहुत भयानक मारपीट, विडियो हुआ वायरल

जानने के लिए आगे पढ़े…

पुलिस अधिकारियों का महिलाओं से मारपीट का वीडियो वायरल हुआ तो अधिकारी कुछ और ही कह रहे है।

प्रयागराज पुलिस पर आरोप लगाया गया है।  यह आरोप यमुनाबार में शंकरगढ़ पुलिस पर लगाया गया है।  पुलिस पर देवरा ग्राम सभा में अवैध प्रवेश हटाने के दौरान महिलाओं से मारपीट करने का आरोप लगा था।  उनका वीडियो इंटरनेट मीडिया पर भी छा गया है।  पीड़ितों के परिजनों ने प्रधानमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूर्व प्रधानमंत्री अखिलेश यादव से ऑनलाइन शिकायत की और मामले की जांच की मांग की।  वहीं, पुलिसकर्मियों ने कहा कि पुलिसकर्मियों को पीटा गया।

पूरी बात क्या है?  वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश से थाना क्षेत्र के देवरा गांव निवासी देवेंद्र प्रताप सिंह की जमीन पर रामकरण यादव के अवैध कब्जे से निजात दिलाने के लिए हाल ही में राजस्व टीम थाने पहुंची थी। वहां से टीम आक्रमण को खत्म करने के लिए बल के साथ साइट पर गई।  इसमें राजस्व निरीक्षक प्राची केसरवानी, लेखपाल गंगा प्रसाद, सहायक निरीक्षक ऋतुराज सिंह सहित अन्य पुलिस एवं राजस्व अधिकारी उपस्थित थे।

सिपाही को गिरफ्तार करने घर में घुसी पुलिस: अभियान शुरू होते ही विकास यादव के बेटे रामकरण ने अपने मोबाइल फोन पर वीडियो शूट करना शुरू कर दिया। यह देख पुलिस ने उसका मोबाइल छीनना शुरू कर दिया।  इसी बात को लेकर कहासुनी हो गई और फिर झगड़े में पुलिसकर्मी की वर्दी फाड़ दी गई।  सूचना थाने को सौंप दी गई और अधिक पुलिसकर्मियों को बुलाया गया।  विकास को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस उसके घर में घुस गई।  रामकरण यादव, रूप सिंह, विवेक यादव, विकास यादव को गिरफ्तार कर थाने ले जाया गया।

घर में घुसने के बाद पुलिस पर मारपीट का आरोप: इस बीच घटना का वीडियो खूब वायरल हो रहा है। उसी समय पुलिस विकास को गिरफ्तार करने उसके घर में घुसी तो महिलाओं ने रास्ता रोकना शुरू कर दिया।  इस पर मारपीट शुरू हो गई।  महिला ने एक पुलिसकर्मी को पकड़ लिया और जब इंस्पेक्टर ने उसे धक्का दिया तो वह साइकिल के साथ जमीन पर गिर गई।  नतीजतन पुलिस पर घर में घुसने पर तांडव का आरोप लगाया गया।

शंकरगढ़ एसएचओ ने कहा: चार गिरफ्तार: शंकरगढ़ एसएचओ मनोज सिंह कहते हैं। राजस्व निरीक्षक प्राची केसरवानी की लिखित शिकायत के अनुसार छह लोगों के खिलाफ पुलिस और राजस्व टीम पर हमला सार्वजनिक व्यवधान, प्रशासनिक कार्य में बाधा, सात सीएलए का मामला लिखा गया है चार थे इसमें गिरफ्तार किया गया है जबकि दो महिलाएं वांछित हैं।

एसपी यमुनापार ने क्या कहा: एसपी यमुनापार सौरभ दीक्षित ने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार करने गई टीम को रोकने के लिए महिलाएं पुलिस के साथ बदसलूकी कर रही थीं। कोई भी पुलिसकर्मी घायल नहीं हुआ।  वीडियो में भी पुलिसकर्मी अपना बचाव करते हुए महिलाओं को खदेड़ते नजर आ रहे हैं।  महिला पुलिसकर्मी की पिटाई करती एक महिला नजर आई।  विकास यादव सेना के जवानों के खिलाफ कार्रवाई के लिए सेना के अधिकारियों को पत्र लिखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.