एक भारतीय लड़की ने किया यूक्रेन से वापिस आने को किया इंकार, वजह जान लोगो के उड़े होश

जानने के लिए आगे पढ़े…

युद्धग्रस्त यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के प्रयास जारी हैं।  इस बीच, भारतीय राज्य हरियाणा की एक 17 वर्षीय लड़की ने यूक्रेन छोड़ने से इनकार कर दिया। 

ऐसे संकट में, जहां हर कोई जान बचाने के लिए देश छोड़ रहा है, इस भारत की बेटी ने अपनी जान की परवाह किए बिना यूक्रेन में रहना चुना।  हालांकि ऐसा क्यों है, यह जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे और इस बेटी की बहादुरी को सलाम करने से आप खुद को रोक नहीं पाएंगे।

दरअसल, छात्रा गृहस्वामी के तीन मासूम बच्चों को खुद पर छोड़कर भारत वापस नहीं जाना चाहती है। शेयर की गई पोस्ट हरियाणवी की बेटी की मां के एक दोस्त ने युद्धग्रस्त देश के भयानक नजारे का जिक्र करते हुए दिल को छू लेने वाली पोस्ट लिखी है।

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के अनुसार, जिस घर में वह एक पेड गेस्ट के रूप में रह रही है, उसके मालिक ने रूस के साथ युद्ध में देश की सेवा करने के लिए यूक्रेन की सेना में शामिल होने के लिए स्वेच्छा से भाग लिया।  यही कारण है कि इस भारतीय छात्र ने अपनी पत्नी और तीन बच्चों की देखभाल करने का फैसला किया।

लड़की की मां के एक दोस्त ने अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया और लिखा: “मेरी प्रेमिका ने उसे वहां से निकालने के लिए दूतावास से संपर्क करने की बहुत कोशिश की, लेकिन ऐसे मुश्किल समय में लड़की अब नहीं है, तीन बच्चों और उसके परिवार को अकेला छोड़ रही है। माँ। चाहता था।

वह अंत तक वहाँ रहने के लिए दृढ़ है। युद्ध उसकी माँ के लाखों प्रयासों के बावजूद है।मुझे आश्चर्य है कि ऐसे कठिन समय में परिवार को प्रदान करने के लिए उस लड़की को क्या प्रोत्साहित करता है?

‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत लौटे भारतीय छात्र

इस बीच, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार, 27 फरवरी को कहा कि केंद्र सरकार यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए दिन-रात काम कर रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर प्रदेश के बस्ती में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत हजारों भारतीय नागरिक सुरक्षित घर लौट चुके हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “हम ‘ऑपरेशन गंगा’ चलाकर यूक्रेन से हजारों भारतीयों को भी वापस ला रहे हैं। सरकार हमारे बेटे-बेटियों को सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए दिन-रात काम कर रही है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.