शिवलिंग पर माथा टेकते ही महिला की हुई मृत्यु , क्या है इस शिवलिंग का रहस्य

जानने के लिए आगे पढ़े…

65 वर्षीय जमुना प्रसाद कसूदन मृतक महिला के पति हैं।  वह विभक्ति देवी के साथ भगवान जलाभिषेक करने भी गए।  उनके पोते रमेश कुमार ने मीडिया को बताया कि पूजा करने के बाद उनकी दादी नहीं उठीं।

देश भर से शिव भक्त महाशिवरात्रि पर शिवलिंग की पूजा करते हैं

महाशिवरात्रि की शुभ वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए भक्तों ने देश भर के शिव मंदिरों में लाइन लगाई।  सुबह से ही, भक्त भगवान शिव के दर्शन के लिए उनके और उनके परिवार के अच्छे भविष्य की कामना करने के लिए हाथों में फूल और फूल लिए खड़े होते हैं। 

लेकिन उन भक्तों में एक महिला भी थी, जिसने शायद भगवान के दर्शन के लिए सांस ली और शिवलिंग को प्रणाम करते ही संसार से विदा हो गई।

शिवलिंग को प्रणाम करने के बाद महिला की मौत हो गई

घटना गुरचापार के हिरया गांव की है, जहां 60 साल की एक महिला महाशिवरात्रि के मौके पर शिव मंदिर में पूजा-अर्चना करने आई और भगवान की पूजा-अर्चना की  लेकिन फिर उसने सिर नहीं उठाया।  लोगों ने देखा कि उनके शरीर में हलचल की कमी है। भगवान के सामने सिर झुकाते ही उनकी जान चली गई।

यह घटना आज भी गांव में चर्चा का विषय बनी हुई है। बताया जाता है कि सुबह चार बजे बुढ़िया गांव के शिव मंदिर में जल चढ़ाने गई थी.  वहां उन्होंने साष्टांग प्रणाम किया, फिर मंच को पकड़ लिया और नीचे झुक गए और होश खो बैठे। परिजनों ने उसे देखा तो उसे अस्पताल ले गए।  अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मंदिर में महिला की मौत से मंदिर में कोहराम मच गया

65 वर्षीय जमुना प्रसाद कसूदन मृतक महिला के पति हैं।  वह विभक्ति देवी के साथ भगवान जलाभिषेक करने भी गए।  उनके पोते रमेश कुमार ने मीडिया को बताया कि पूजा करने के बाद उनकी दादी नहीं उठीं। 

दादाजी ने भी उन्हें कई बार पुकारा, लेकिन उनके शरीर पर कोई हलचल नहीं हुई।  जब भक्ति देवी ने देवी की आवाज नहीं सुनी तो जमुना प्रसाद ने उन्हें छू लिया।  तब उसे पता चला कि उसकी जान चली गई है। 

विभक्ति देवी को छूते ही वह एक तरफ गिर गया।  मंदिर में कोहराम मच गया, जिसे सुनकर वहां के लोग भी आ गए और विभक्ति देवी को बाहर निकालकर अस्पताल ले गए।

बचपन से ही शिव की पूजा करते थे

जानकारी के मुताबिक जमुना प्रसाद के 2 बेटे और 3 बेटियां हैं। उन्होंने परिजनों को बताया कि विभक्ति देवी बचपन से ही शिव की भक्ति में लीन रहती थीं।  ऐसे में महाशिवरात्रि के दिन भगवान के सामने उनकी मौत से लोग सदमे में हैं।हालांकि इसे शुभ भी माना जाता है।

पूर्व विधायक कांग्रेस ने ऐसे कहा दुनिया को अलविदा…

याद रहे, कुछ साल पहले ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश में देखने को मिला था। नवंबर 2020 में पूर्व विधायक कांग्रेसी और उद्योगपति विनोद डागा मंदिर में पूजा कर रहे थे। 

उन्होंने भगवान की मूर्ति की भी पूजा की और फिर से नहीं उठे। उनका दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।  यह घटना सीसीटीवी में भी कैद हो गई।  जिसने भी सुरक्षा कैमरे की फुटेज देखी वह हैरान रह गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.