70 साल की महिला ने दिया एक साथ 4 बच्चो को जन्म, ये सब देख डॉक्टर के उड़े होश

जानने के लिए आगे पढ़े…

बिहार राज्य के मोतिहारी में एक महिला ने चार बच्चों को जन्म दिया। महिला ने जन्म से पहले सभी बच्चों को जन्म दिया। बच्चों में एक बेटी और तीन बेटे हैं। जन्म के बाद सभी बच्चे और मां स्वस्थ हैं। बच्चे का वजन सामान्य वजन से 600 ग्राम कम है।

मोतिहारी (मोतिहारी), बिहार राज्य (बिहार) में एक परिवार को उपहार के रूप में चार बच्चे मिले।  तुर्कलिया जिले के शंकर सराय के मुर्गिया तुला निवासी चंदन कुमार सिंह की पत्नी उषा कुमारी ने चार बच्चों को जन्म दिया है। यहां महिला ने ज्योति झा और शहर के सर्जिकल केयर डॉ. आरके झा में चार बच्चों को जन्म दिया। 

डॉक्टर ने कहा कि सभी बच्चे केवल 7 महीने में पैदा हुए थे।  हैरानी की बात यह है कि ये सभी स्वस्थ हैं।  इसकी चर्चा पूरे क्षेत्र में हो रही है।  महिलाओं ने उषा कुमारी को चार बच्चों, एक बेटी और तीन बेटों को जन्म दिया।  समय से पहले चार बच्चों के जन्म के बाद भी सभी बच्चे स्वस्थ हैं।

कम वजन वाला बच्चा

महिला का पहले मोतिहारी के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। ऑपरेशन सोमवार रात चार बजे हुआ।और जब यह प्रदर्शन किया गया, तो चार बच्चे पैदा हुए।  इसमें एक लड़की और तीन बेटे पैदा हुए, और लड़के सिर्फ सात महीने में पैदा हुए।

इसके बावजूद सभी बच्चे स्वस्थ हैं। केवल एक बच्चे का वजन सामान्य से 600 ग्राम कम था। उसके बाद उन्हें बेहतर इलाज के लिए मुजफ्फरपुर के केजरीवाल अस्पताल भेजा गया।

कटिहार में एक अद्भुत बच्चे का जन्म हुआ

यहां चार बच्चों के जन्म के बाद परिवार के लोग जश्न मनाते हैं।  भगवान की कृपा ने उसे बुलाया।  ऐसा वे सुख चौपाई पाने के लिए कहते हैं।  इससे पहले, बिहार के कटिहार में चार हाथ और चार पैरों वाले एक लड़के का जन्म हुआ था। 

और फिर लोगों ने लड़के को भगवान का अवतार कहा।  दरअसल, बीते दिनों कटिहार सदर अस्पताल में एक महिला ने प्यारे बच्चे को जन्म दिया। लड़के का एक सिर, चार हाथ और चार पैर थे।

लोगों को बताएं भगवान का अवतार

इस अद्भुत बच्चे के जन्म के बाद किसी ने उन्हें प्रकृति का करिश्मा कहा तो किसी ने उन्हें भगवान का अवतार बताया।  लड़के को देखने के लिए लोग अस्पताल में जमा हो गए। 

डॉक्टरों ने कहा कि लड़का स्वस्थ और स्वस्थ है। यहां परिजनों का दावा है कि एक निजी क्लीनिक में तीन-चार अल्ट्रासाउंड मशीनें कराई गईं। इसका असर बच्चे पर पड़ा।  लेकिन डॉक्टरों ने पुष्टि की कि लड़का स्वस्थ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.